Amazing Testimonials
More Testimonials

Amazing Experiences of Reiki Masters

MASTERSHIP HAS EMPOWERED ME WITH LOVE & ABUNDANCE

I am truly blessed with the divine experience of Reiki. I thank God and Guruji-Guruma for taking me through this wonderful journey. I also thank my parents for bringing me close to this world of abundant spirituality. Becoming a Reiki Master makes me feel empowered with unconditional love and abundance and a responsibility to heal myself and the world around me. My entire journey with RHF has been very memorable and I wish to be always connected with this organisation and assist in their goal of healing this world. God Bless Us All!

Aarti Saxena, Gurgaon

AFTER MASTERSHIP, I FEEL ENLIGHTENED

Mastership has been a totally Divine experience. I feel enlightened. Mastership has helped me on all levels – physical, emotional and financial. It has enhanced my confidence level immensely. I feel that now nothing is impossible for me to achieve. It is a pleasure to learn Reiki under the guidance of Guruji-Guruma. I do not have words for Guruji-Guruma. Both of them are real enlightened Masters.

Gajendra Kumar Sahu, Chhattisgarh

MASTERSHIP HAS GIVEN ME A FEELING OF REBIRTH

I am extremely indebted to God and Guruji-Guruma for introducing this wonderful gift of Reiki in my life. The efficacy of Reiki is excellent in everyday life. Mastership has given me a feeling of rebirth. Reiki has helped me in becoming a better human being. It is perhaps the best way to serve the ailing & the diseased. After Mastership, I feel also very confident & energetic. RHF is the best and the most advanced Reiki teaching organisation in the country.

Gopal Sharma, Nagpur

MY 60 YRS. OF SEARCH FOR TRUTH ENDED IN 2 DAYS WITH GURUJI

Reiki heals beyond caste, creed & colour. It is a divine power that has brought tremendous change in my life. I have learnt to heal myself and others. Mastership has increased my healing powers manifold. It is my aim now to spread this Reiki movement in India & South Africa. In fact Mastership has been the most beautiful thing that I have ever experienced in my life.

Krishan Kr. Thakur, South Africa

MASTERSHIP HAS CHANGED MY LIFE FOREVER

Mastership gave me the most wonderful day of my life. I am feeling extremely relaxed and light. There is no stress now. I am so lucky that my Guruji-Guruma have blessed with me with a new life to live long and a healthy life and also help others to live a better life. I loved the Mantra “Aum Mani Padme Hum”. I felt that it cleared all my chakras. Mastership has changed my life forever. Guruji's method of teaching Reiki and the healing techniques is awesome.

Amrit Kaur Batra

MASTERSHIP WAS AN UNPARALLELED EXPERIENCE

Mastership has made me positive, tension-free and completely peaceful. During the attunement, I felt angels crowning me and blessing me with a shower of bright white light. It was an unparalleled experience. I am extremely grateful to Guruji-Guruma for having given me such a wonderful gift for life. Now, my only aim is to work for the promotion of Reiki in Mumbai and serve the humanity.

Roshni J. Hinduja, Mumbai

MASTERSHIP ATTUNEMENT IS LIKE ENLIGHTENMENT

My experience of learning 3 levels of Reiki was so brilliant that I decided to go for Mastership and experience the divine feeling of the Mastership attunement. I am grateful to RHF for showing me this divine and spiritual path to attain Enlightenment. I hope that Reiki would help me achieve success, health, wealth and peace of mind. I would make the best of my efforts to spread and propagate Reiki in everybody's life.

Mr. Ashok Kumar S., Bengaluru

MASTERSHIP EXPERIENCE CANNOT BE EXPLAINED IN WORDS

Mastership attunement made me experience tremendous bliss where I forgot myself and became one with the wholeness. A magnificent feeling of glory and joy was coming from inside my body that has left me immensely happy. I could also feel yellow light shimmering at my Brow chakra for a few seconds. The entire experience has been marvelous and cannot be explained in words. Guruji-Guruma have changed my life forever. I shall forever be indebted to them for giving me this miraculous power to heal self & others.

Mr. Naveen Kumar Parkala, Hyderabad

जीवन रूपांतरण की विधा है रेकी

रेकी एक शकितशाली विधा है। इसे अपनाने के बाद मुझमें आत्मविश्वास बढ़ गया है। कुछ करने की इच्छा पैदा हो गर्इ है। अब मैं अपने परिवार और दूसरों का भी भला कर सकती हूँ। मै स्वयं को अत्यन्त सौभाग्यशाली समझती हूँ कि मैंने गुरू जी - गुरू माँ से जीवन रूपांतरण की यह विधा प्राप्त की है। इस दिव्य अनुभूति के लिए मैं गुरू जी और गुरू माँ का ध्न्यवाद करती हूँ। रेकी करने का मेरा उíेश्य अपने परिवार और मानवता का हित करना है। मैं आशा करती हूँ कि इस उíेश्य में मैं सफल रहूँगी।

पूनम बंसल, दिल्ली

रेकी से मिला जीवन में नयापन

रेकी विधा सीखकर मुझे यह महसूस हुआ जैसे मेरे जीवन का यही उíेश्य था जो अब पूरा हो रहा है। मेरी आत्मा हमेशा से जीवन की सच्चार्इ ढूंढती रही है और अब मेरे जीवन में नयापन व नर्इ जिन्दगी की शुरूआत हो गर्इ है। मैं अब सारा जीवन इसी में बिताने का फैसला ले चुका हूँ। मुझे पिछले कुछ समय से ऐसा महसूस होता रहा है कि मुझे परमात्मा यहीं लाना चाहते थे लेकिन बाद में ध्ीरे-ध्ीरे सब कुछ साफ होता चला गया और मैं आगे बढ़ता गया। रेकी में आकर मैंने जाना कि मेरा भला, दूसरों का भला।

बालकृष्ण निखरा, गाजियाबाद

जन-सेवा की ओर अग्रसर करती है रेकी

मास्टरशिप लेने का मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा। ऐसा लग रहा है जैसे हमारा जन्म दुनिया के उ(ार के लिए हुआ है। हमें सबका दिल से भला सोचना चाहिए। कोर्इ हमारे लिए कुछ भी कहे परंतु हमें अपने कर्म अच्छे करने हैं। दीनदुखियों की खासकर उन लोगों की सेवा में तत्पर रहना है जिनका दुनिया में कोर्इ नहीं है। शकितपात के समय ऐसा महसूस हुआ जैसे नवजीवन मिल गया है। अब गुरुजी-गुरुमाँ की कृपा से हर कार्य को सच्चे दिल से करने और जरूरतमंदों की सेवा करने का हर संभव प्रयास करूँगी।

अमरजीत कौर छाबड़ा, मोहाली

मास्टरशिप ने कराए इष्टदेव के दर्शन

मास्टरशिप में आज आचार्य बनने की दीक्षा लेकर मैं परम आनंद का अनुभव कर रही हूँ। शकितपात के समय जैसे मेरी आत्मा परमात्मा में लीन हो गर्इ हो। इस अनुभव ने मुझे असीम सुख की अनुभूति करवार्इ। èयान के समय मैंने स्वयं में प्रकाश का अनुभव किया और अपने इष्टदेव की झलक देखी जिसे देखने के लिए मैं वषो± से लालायित थी। ऐसा सुखद व कल्याणकारी अनुभव कराने वाले गुरुजी-गुरुमाँ का मैं तहेदिल से ध्न्यवाद करती हूँ

पार्वती बार्इ शर्मा, चण्डीगढ़

मास्टरशिप में हुए दिव्य ज्योति के दर्शन

मास्टरशिप में मुझे शकितपात के समय ऐसा अनुभव हुआ जैसे मैंने एक दिव्य ज्योति के दर्शन कर लिए हैं जिससे मेरा रोम-रोम पुलकित हो गया है। मुझे ऐसा लगा कि वह दिव्य ज्योति मेरे रोम-रोम में समा गर्इ है। ऐसा महसूस हो रहा है कि मैं र्इश्वरमय हो गया हूँ। मास्टरशिप और रेकी ने मेरे जीवन को एक नर्इ दिशा और नया उíेश्य दिया है। मैं गुरूजी और गुरू माँ के चरणों में âदय से आभार व्यक्त करता हूँ

जसवन्त सिंह, नोएडा

मास्टरशिप एक प्रकार की सिद्धि है

मेरी शुरू से ही धर्मिक और आèयातिमक विषयों में रूचि रही है। यही कारण है कि मैंने रेकी सीखने का निर्णय लिया था। रेकी सीखकर मुझे जीवन में बहुत लाभ हुआ है और मैंने बहुत से सकारात्मक परिवर्तन महसूस किए हैं। मास्टरशिप एक प्रकार की सिद्धि है जिसके द्वारा व्यकित आèयातिमक उत्थान की राह पर सरलता से चल पाता है। स्व-परिवर्तन के साथ-साथ, दूसरे लोगों का उपचार और जन-सेवा करने का इससे बेहतर तरीका कोर्इ और नहीं हो सकता। इसके लिए मैं गुरूजी और गुरूमाँ की जीवनभर आभारी रहूँगी।

मृदुता मांगीलाल जैन, कल्याण

गुरूजी - गुरूमाँ से मिलकर हुआ जीवन सफल

रेकी ने मेरी संपूर्ण असुरक्षा की भावना दूर कर दी है। मास्टरशिप ने बिना किसी आडम्बर और जादू के उपाय के मुझे वह आèयातिमकता और शांति प्रदान की है जो मैंने जीवन में सदैव चाही थी। गुरूजी-गुरूमाँ से मिलने के बाद सच्चे गुरू की मेरी तलाश भी समाप्त हो गर्इ है। मैं उनकी अत्यंत आभारी हूँ कि उन्होंने मुझे यह महान विदया प्रदान की है जिससे मैं विश्व-कल्याण के उनके प्रयास में अपना थोड़ा योगदान दे सकूँगी। रेकी सीखने के लिए आर.एच.एफ. से बेहतर कोर्इ जगह नहीं है।

श्रीमती मोनिका जोशी, अमृतसर

मास्टरशिप प्रारब्ध को काटकर जीवन शुदध करती है।

रेकी आचार्य बनना ही शायद वह एकमात्रा विदया है जो हमारे दुखों, अभिशापों और प्रारब्ध् को काटकर शुदध् जीवन प्रदान करती है। इस विदया से व्यकित स्वयं को र्इश्वर के अत्यंत निकट महसूस कर सकता है। इससे हम अन्य लोगों की सहायता कर उन्हें भी आनंदित करवा सकते हैं। '¬ मणि पदमे हं मंत्रा के दौरान मुझे अदभुत अनुभव हुआ और मुझे ऐसा लगा कि मैं अपने हजारों हाथों से लोगों को मणियाँ दे रही हूँ तथा बदले में मुझे मणि का पर्वत मिल रहा है। मेरे पास गुरूजी-गुरूमाँ का आभार व्यकित करने के लिए शब्द नहीं हैं।

श्रीमती मंजुला कौशिक, जयपुर

मैंने साक्षात भगवान के दर्शन किए मास्टरशिप में

रेकी के सिंबल से जो साध्ना होती है वह अचूक है। डा साहब के आशीर्वाद से न जाने कैसे भगवान व आत्मा के दर्शन हो जाते हैं यह अकथनीय है। जैसा साध्ना में चित्र दिखार्इ देता है वैसा ही घटित होता है। जैसे मैंने अपने बेटे की नौकरी की साध्ना की उसका पत्र आने से पहले मुझे शनिदेव विश-बाक्स में जाते दिखार्इ दिए। इस तरह मैंने मास्टरशिप का सोचा भी नहीं था परंतु सिंबल साध्ना में मैं गुरूमां के चरणों में बैठी थी और वह भी पूर्ण हो गर्इ। इस तरह जब से रेकी सीखी है हर सूचना अच्छी-बुरी साध्ना के समय चित्र में दिखार्इ देती है।

कामिनी मेहंदीरत्ता, फरीदाबाद

 

Main Menu Hide Menu Show Menu Back to top
Loading