Amazing Testimonials
More Testimonials

Amazing Experiences of Pastlife & Astral Traveling (Student Workshop) Unfolding the Hidden Secrets

Astral travelling solved a case of theft

In 1947, I was Christian girl named Leena (presently I'm Hindu Brahmin) and I lived in a foreign country. During the Past Life Regression session, I saw that I was standing in Church in front of the Father. I was having Bob-cut hair and was wearing a frock. My age was around 25 years. Then I saw that my face & body had turned black due to some disease and I died. My soul was Blue in colour.

In the year 2100, I would be a boy called Jiwan and my present life parents would again be my parents in 2100. I would be financially very sound and would be working in a very good office. In 2015, I saw that my elder daughter has got married and the younger daughter is in college.

Astral Travelling : During Astral travelling, I went to my home and saw that my elder daughter was studying and the younger one was playing and husband was watching TV. On confirmation, I came to know that what I had seen during Astral travelling, it was absolutely correct. Another interesting thing that I experienced was that I could unveil a secret. One of my friends had lost her gold bangles so I decided to find out as to who had stolen the bangles. During past regression, I came to know that a boy had stolen the bangles. So I conveyed a mental message to the boy to return the bangles. Amazingly, the boy, along with his mother came on that very evening and returned the bangles to my friend seeking apology for it. It is marvellous method of knowing the unknown and can also be used to solve complex cases, even of criminal nature. I feel that everybody should learn this wonderful PLR technique and use it in one's life to solve their problems!

Sumitra

In 1924 I was a beautiful dancer raped & killed by a king

During PLR, I saw that in 1924, I was a very beautiful dancer named Taniya in the Hotel Oberoi of Mumbai. There, a king proposed to me but when I refused his offer, he had me abducted. Thereafter, he raped me and killed me by throwing me off a mountain peak. In 2015, I saw that I would have a big building worth Rs.28 lakhs in Nipani (Maharashtra) and also a Blue car worth Rs.18 lakhs. I also saw that my bank balance would be around 1.78 crores. In the year 2100, I would be the owner of a big 35-floor restaurant worth Rs.135 crores. My name would be Raghu. I am very happy to see that I have an extremely bright future ahead.

Ashok Harishchandra Gangare

I was a Gujarati male in 1865; would be a Photographer in 2100

In 1865, I saw myself as a male (named Bhola) in Gujarati dress in a small Haveli. My present Husband was my wife at that time. I also saw that we used to hide in a small dark dungeon while playing but I was always afraid of that place. I feel that fear of closed & dark places, exists in me in this life too. I died a natural death and my soul was pink. In 2100 I would be a Photographer in a foreign country. My present parents would come back as my parents. In 2015, I would have a new house and I would also have a son by then. I wanted to find the secret of my father's death & I could see it.

Kiran Gehlot

Dead Brother-in-Law would be born as my son in 2013

In the past, I was in Mecca with the name Abu Hassan. My present father was then my younger brother named Afzal. We had a construction business. I died a natural death in old age. In 2080, I would be a Christian, George in New York. Though I have done B. Tech. but in 2012, I saw myself appearing CAT (MBA) exam and in 2015, I saw myself working at a Managerial post in an MNC. During astral travelling, I went to US and saw the number of a newly purchased car by my brotherin-law. I also found a secret that my younger brother-in-law who died in 1997 would be born in family as my son in 2013.

Irfan Khan

In 1929, I was an ascetic; During astral travel I found a secret

In the past life, I saw myself in the year 1929. It was a mountainous region with a river flowing nearby. Then I saw myself alone inside a hut in a small village. I was an ascetic wearing very few clothes. In the year 2100, I saw an entirely different milieu with modern lights everywhere. I would not like to tell what I saw in 2015. Then, during astral travel, I went to my home where I saw my wife watching TV, my son & his wife were in their room and my 2 dogs were sitting in the drawing room. I could also see the secret which I wanted to know.

Pramod Kr. Sharma

I was a Muslim boy in the past

In 1800, I saw myself as a Muslim boy named Kashif in a hilly area in a small village with my father & mother. My present mother was also my mother in the past. I was the only earning source in the family and I had to struggle excessively hard due to which I died in a young age. My soul was white in colour. I could not see the year 2100. In 2015, I would be having my own business. My husband would be named Kashif and I also saw 2 kids at that time.

Shagufta

In past I was Franklin, in future I will be a Chinese

In the past life, I saw myself in Military dress and my name was Franklin. It felt as if I was the captain of a ship. I also saw my death but could not see how I died. During future life progression, I saw that in the year 2100, I would in China working in the field of sports. Most likely, it would the area of Archery. I could not see the year 2015. However, in 2012, I saw Dr. N. K. Sharma addressing a huge crowd.

Rajiv Sachdeva

I died of a head injury as a poor farmer; In 2100 I would become a Christian

In the 18 century, I saw that I was a poor farmer named Birju and I saw myself working on a dry piece of land. My present grandfather was my father at that time. I had 2 kids. I died when a British hit me on the head with a baton. I was burnt after the death. My soul was yellow in colour. In 2100, I would be a Christian named John. My wife would be Jennifer and father called Joseph. I would a Manager in a reputed company. Presently, I am a student but in 2015, I would work in the I-Tax department. I would be married by then and would have one kid. During Astral travel, I went the office of my younger brother whom I saw arguing with his manager. In 2012, I saw Dr. N. K. Sharma & Dr. Savita Sharma signing some important documents.

Dhiraj

Fraud committed in past life has spoilt present life; In 2100 I would be a Captain of a ship

In 1868, I was born in an Arabic country as a Pathaan and a friend of that life is my present life husband. He ditched me and killed me in the previous life. He has continued to ditch me and give troubles in this life also. Hundreds of years back, I had stolen some gold coins and that fraud committed by me is resulting in all these problems. In 1901, I was reborn as a boy in Pondicherry and the then parents are my real sisters of this life. I got married at the age of 25 and died at 30 by falling off a cliff. My previous life's daughter is my mother-inlaw in this life. I also came to know that a girl whom my brother ditched in this life cursed me causing all kinds of miseries. During Astral travel, I talked to my mother who died 6 years back. I also saw that my father (who also died some time back) has taken rebirth as a very beautiful girl in a royal family of Udaipur. I also saw my death at the age of 45 years, after which my mother would come and take me along on the onward journey. In 2100, I would be born in a beautiful country and become a Captain of ship. My name, then, would be Ana and I shall have 2 kids. This experience of PLR has made me follow the reality and importance of the theory of Karma. I can now plan my future life in a better and systematic manner.

Rekha Babbar

I have a bright future ahead; saw the mysterious death of brother-in-law

In the past life, my name was Brijlal and my present father was also my father then. His name was Pratap Singh. I died in Tanakpur (MP) by slipping while trying to pluck fruits from a banana tree. In 2080, I would be a clean shaved man in North Korea. In 2015, I would be high level officer. While trying to find out the secret of my brother-in-law's death, I saw the entire sequence of his accident happening. During astral travelling, at home, I saw my wife and mother on terrace.

Gajendra Kumar

1963 में मैं नि:संतान थी, 2100 में मैं ट्रेवल ऐजेंट बनूंगी

मैंने देखा कि 1963 में मैं राजस्थान में एक महिला रूप में किसी बाजार जैसी जगह पर हूं जहाँ वैसे तो काफी भीड़-भाड़ है परंतु मुझसे कोर्इ बात नहीं कर रहा। मैंने खुद को काफी अकेला महसूस किया। इसका कारण शायद यह था कि मेरे पति के साथ मेरे संबंध अच्छे नहीं हैं क्योंकि हमारी कोर्इ संतान नहीं है। मैंने देखा कि लगभग 50 वर्ष की आयु में मेरी सामान्य मृत्यु हो गर्इ थी। अभी मैं अविवाहित हूं किन्तु 2015 में मैंने देखा कि मेरी एक सम्पन्न परिवार में शादी हो चुकी है और मेरा एक चार वर्ष का बेटा भी है। मैंने खुद को अपने बेटे के साथ एक गाड़ी में बैठे देखा जिसे ड्रार्इवर चला रहा है। सन 2100 में मैंने खुद को एक ट्रेवल ऐजेंट के रूप में देखा, साथ ही शिवम नामक एक बच्चा भी दिखा। ऐस्ट्रल ट्रेवल के दौरान में घर गर्इ जहाँ मैंने अपनी बहन को सोते हुए देखा।

नवप्रीत कौर

पूर्व जन्म ने खोला वर्तमान परेशानी का रहस्य

पूर्व जन्म में 1921 में मैं पेरिस में सार्इमन नामक एक अमीर और बहुत बड़ा उधोगपति था। मेरी पत्नी का नाम अलीशा था। मैंने अपनी पत्नी को कभी भी खुश नहीं रखा और काफी कष्ट पहुँचाया। बाद में 76 वर्ष की आयु में किसी बीमारी से मेरी मृत्यु हो गर्इ। उस समय मेरे बच्चे और अन्य सभी रिश्तेदार मेरे पास थे। रहस्य खोजने के दौरान मैंने पाया कि पूर्व जन्म में अपनी पत्नी को खुश न रखने के कारण वही इस जन्म में मेरे लिए बाधएँ उत्पन्न करती है पर अब मैं यह राज जानकर अपनी सिथति ठीक कर सकूंगा। 2015 में मेरे पास एक बड़ी गाड़ी होगी जो अभी नहीं है। 2107 में मैंने देखा कि मैं कैरोल नामक युवती बनूंगा और बहुत बड़ा उधोगपति होऊँगा। ऐस्ट्रल ट्रेवल के दौरान मैं घर गया और अपने बेटे को देखा जो किताबें खोलकर बैठा था, किन्तु टीवी पर डिस्कवरी चैनल देख रहा था।

संजय जैन

1929 में मैं नूरी थी, 2015 में मैं कनाडा में होऊँगी

पूर्व जन्म में 1929 में मैंने देखा कि मंै हिमाचल प्रदेश जैसे किसी पहाडी़ इलाके में नूरी नाम की लड़की थी और मैने पीले रंग का घाघरा चुन्नी पहनी थी। घर में मेरी माँ थी जो किसी विजय नामक व्यकित के साथ बैठी थी। मेरी मृत्यु 65 वर्ष की आयु में हुर्इ। मुझे जलाया गया था। मेरी आत्मा हल्की नारंगी रगं की थी। 2015 में मंै शायद कनाडा में हूँ और मंै गर्भवती थी मैनें अपना एक पुत्रा देखा। मैं अपने जीवन के जिस रहस्य को जानना चाहती थी, वह भी मैनें जान लिया। गुरु जी के आदेशानुसार, स्वयं को अत्यतं शकितशाली अनुभव कर रही हू।

अमनदीप

पूर्वजन्म में मैं एंजेलिना नामक क्रिशिचयन थी, एस्ट्रल ट्रेवलिंग से खोजा गुमा हुआ पासपोर्ट

अपने पूर्व जन्म में मंै क्रिशिचयन थी और मेरा नाम एंजेलिना था। मेरे पति का नाम जोसफ़ था और हम लोग सिवटजऱलैंड में सुखपूर्वक रहते थे। मेरी मृत्यु 83 वर्ष की आयु में हुर्इ। पूर्व जन्म कार्यशाला के दौरान एस्ट्रल टे्रवलिंग द्वारा मैंने अपनी माँ का काफी समय से खोया हुआ पासपोर्ट खोज लिया जो एक अलमारी में उन्हीं के एक सूट के बीच में दबा हुआ था। यह सचमुच अदभुत कार्यशाला है।

यूविका सामरा

2100 में मेरी दादी मेरी पत्नी के रूप में होगी

1826 में मंै उदयपुर में एक सुंदर स्त्राी था। मेरी वर्तमान बेटी पिछले जन्म में मेरा पति थी। बाजा़र में चूडि़याँ खरीदते वक्त एक साँप के काटने से 58 साल की उम्र में मेरी मृत्यु हो गर्इ थी। 2100 के भविष्य में जाकर मैंने देखा कि मंै वाशिंगटन में एक सरकारी एडवाइजरी कमिटी में एक लंबे ऊँचे कद का सुंदर-सा वकील हूँ। मेरा नाम जानाथन रीव है। सबसे बड़ा आश्चर्य यह देखकर हुआ कि मेरी वर्तमान दादी जिनके साथ मेरा बहुत प्रेम है वह अगले जन्म में मेरी पत्नी के रूप में दिखार्इ दी। मेरी अपनी बेटी बुआ के रूप में दिखार्इ दी। 2015 में मैंने देखा कि मेरी एक बेटी और हो चुकी है।

जिमी

पिछले जन्म में की हत्या बनीं, इस जन्म में दुख का कारण

सन 1860 में मैंने देखा कि मैं श्रीनगर इलाके में एक सेना का सिपाही हूँ। मुझे बहुत-सी लड़कियाँ पसंद करती थीं किंतु मैं उनमें रूचि नहीं दिखाता था क्योंकि मुझे केवल देश-सेवा में ही रूचि थी। मैंने अपने जीवन में तीन लोगों की हत्या की जिसके कारण मेरे वर्तमान जीवन में कुछ तकलीफें हैं। 1924 में 80 वर्ष की आयु में मेरी मृत्यु हुर्इ और मेरी आत्मा 30-40 वर्ष बिना शरीर धरण किए घूमती रही। सन 2100 में मैं इंग्लैंड में किसी राजसी परिवार में एलबर्ट नाम से जन्म लूँगा। 2015 में मैंने देखा कि मैं भाषण दे रहा हूँ और बहुत-से लोग रूचिपूर्वक सुन रहे हैं। मैंने देखा कि 2012 में डा. एन. के. शर्मा अमेरिका में रेकी का कार्यक्रम कर रहे हैं। एस्ट्रल ट्रेवलिंग के दौरान मैं घर गया था और मैंने देखा कि हापुड़ में मेरे भार्इ को चोट लगी है तथा उसे लोग मिलने आ रहे हैं। रहस्य खोजने पर पता चला कि मेरे वर्तमान दुखों का कारण पिछले जन्म में मेरे द्वारा उन तीन लोगों की हत्या है

शांति स्वरूप गुप्ता, मेरठ

मेरे वर्तमान पति 1865 में मेरे पुत्र थे 2015 में मेरे बेटे का बेटा हो जाएगा

1865 में मैंने देखा कि मैंने भ्ूारे रंग का कोट पहना है और मंै सिवटजऱ लैंड में एक पार्टी में हूँ। मेरे घर में हेली नाम की एक छोटी बच्ची भी थी। उस जन्म में मेरे वर्तमान पति मेरे पुत्र थे। मेरी मृत्यु विमान दुर्घटना में हुर्इ मेरी आत्मा सुनहरे रंग की थी। सन 2100 मेें मैंने स्वंय को राजसी वस्त्रों में 32 वर्ष की आयु में झूला झूलते देखा और मेरा नाम माध्वी था। 2015 में हमारे पास एक काली गाड़ी होगी, मेरे बेटे का विवाह हो जाएगा और उसका भी एक बेटा हो जाएगा। कोलोन कैंसर के बावजूद मैंने देखा कि गुरु जी के मार्ग दर्शन और रेकी के नियमित प्रयोग से मेरा स्वास्थ्य बहुत अच्छा रहेगा। एस्ट्रल टे्रवलिंग के दौरान मैं घर गर्इ थी और मैंने देखा कि जी़टीवी पर फिल्म चल रही है।

डा. सविता शर्मा

1920 में मैं जयपुर में नृत्य शिक्षिका थी, 2100 में मैं सिडनी में होऊँगी

सन 1920 में मैं जयपुर में नृत्य सिखाती थी। मेरे वर्तमान कार्यालय में एक सज्जन, जिनसे मेरे संबंध् अच्छे नहीं हैं, पूर्वजन्म में मेरे पिता थे। 55 वर्ष की आयु में मेरी मृत्यु हुर्इ और मुझे जलाया गया था, मेरी आत्मा सिल्वर रंग की थी। सन 2100 में मैंने स्वयं को सिडनी (आस्ट्रेलिया) में स्कूल में पढ़ते हुए देखा। मैं अभी अविवाहित हूँ किंतु 2015 में मैंने स्वयं को अपने बच्चों के साथ खाना खाते देखा। एस्ट्रल ट्रेवलिंग के समय मैं अपने घर गर्इ और मैंने सभी को देखा कि वे सब टीवी पर हेमा मालिनी की फिल्म देख रहे हैं। रहस्य की खोज करते समय मैंने बहुत समय से खोर्इ हुर्इ अपनी एक पुस्तक खोज ली।

सुप्रिया

एस्ट्रल ट्रेवलिंग से मैंने कीमती वस्तु को खोज लिया

मैंने देखा कि पूर्व जन्म में मंै विदेश में एक पुरुष थी। मैंने जीन्स एवं जूते पहने हुए थे उस समय मेरी आयु 45 वर्ष थी। घर में मेरी माँ मुझे बेटा, बेटा कहकर पुकार रही थी। कम उम्र में ही मेरी मृत्यु हो गर्इ तथा मुझे काफिन में डालकर दफनाया गया था। मेरी आत्मा हल्के लाल रगं के बिंदु जैसी थी। सन 2100 में मैंने स्वयं को एक अत्यंत आèयातिमक भारतीय परिवार में जन्मे नवजात शिशु के रूप में देखा। 2015 में हमारा परिवार खुशहाल होगा। मेरा अभी एक पोता है और 2015 में मैंने अपना एक पोता और देखा। एस्ट्रल टे्रवलिंग के दौरान, मंै अपने घर गर्इ, जहाँ मैंने 19.01.2009 को एक खोर्इ हुर्इ कीमती वस्तु को खोज लिया।

रचना आहूजा

एस्ट्रल टे्रवलिंग में खोजा रहस्य

सन 1412 में मैं सुनंदा नामक राजकुमारी था और मेरी एक सहेली थी प्रिया। उसने मुझे एक हीरे-जवाहरात वाले से लेकर एक सुंदर हार पहनाया जिसका कोर्इ टुकड़ा मेरी गर्दन में चुभ गया। वर्तमान में मुझे गले में कुछ तकलीफ है जो शायद उसी कारण से है। सन 2100 में मैं राजीव सक्सेना नामक एक बहुत बड़ा उधोगपति बनूँगा जिसके पास बड़ा-सा बंगला तथा हजारों काम करने वाले होंगे। अभी मैं अविवाहित हूँ किंतु 2015 में मैंने देखा कि मेरी शादी हो जाएगी तथा मेरे दो बच्चे भी होंगे। सन 2012 में डा. एन. के. शर्मा को मैंने सिवटज़रलैंड में छुटिटयाँ मनाते हुए देखा। एस्ट्रल ट्रेवलिंग से जब मैं घर गया तो मैंने देखा कि मेरी माताजी अखबार पढ़ रही हैं तथा मेरी बहन टयूशन पढ़ा रही हैं। मैं एक रहस्य भी खोजना चाहता था कि मेरे सभी दोस्त सफल हैं किंतु मुझे जीवन में उतनी सफलता क्यों नहीं मिलती? इसके विषय में मैंने देखा कि सन 2000 में मेरे एक मित्रा ने मुझे धोखा दिया था जिसका भय मेरे भीतर बैठ गया और वह भय मेरे मनोबल को तोड़ता रहता है।

सतीश कुमार आर्य

 

Main Menu Hide Menu Show Menu Back to top
Loading